लाल पानी से प्रभावित लाेगों काे राेजगार देने सहमति नहीं बनने पर नपा उपाध्यक्ष रेल पटरी पर बैठ गए , January 08, 2021 at 04:00AM

कलेक्टर के निर्देश पर नगर की 11 सूत्रीय मांग को लेकर एसडीएम ऋषिकेश तिवारी की अध्यक्षता में गुरुवार काे सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक माइंस आफिस के सभागार बैठक रखी गई। जिसमें नगर की विभिन्न समस्याओं व मांगों को लेकर श्रमिक संगठनों, राजनीतिक दलों, बीएसपी व प्रशासन के बीच मुद्दाें पर चर्चा की गई। अधिकांश मुद्दाें पर सहमति बनी व कुछ विषय पर शासन काे भेजने की बात कही गई। लेकिन कुछ मांगें नहीं माने जाने पर बैठक के बाद नपा उपाध्यक्ष संताेष देवांगन झंडा लगाकर कुछ महिलाओं के साथ गाडर पुलिया के पास रेल पटरी पर बैठ गए। तीन घंटे तक रेल पटरी पर बैठे रहे। जिसके बाद एसडीएम और तहसीलदार के समझाने के बाद शाम 6 बजे पटरी से उठे। बताया गया कि मालगाड़ी 6 बजे के बाद इस रूट से गुजरती है। वहीं यात्री ट्रेन अभी बंद है। इस वजह से रेलवे को कोई असर नहीं पड़ा।
संताेष देवांगन ने कहा कि लाल पानी से प्रभावित 42 लोगों को काम लेना था। लेकिन 14 लोगों को काम देने की बात कही जा रही है। बीएसपी प्रबंधन द्वारा टालमटोल किया जा रहा है। बैठक में रेल लाइन से प्रभावित दुकानदारों को मुआवजा दिए जाने के संबंध में चर्चा की गई। एसडीएम ऋषिकेश तिवारी ने बताया कि प्रभावित दुकानदारों द्वारा मुआवजा की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन किया जाता है। जबकि परियोजना से प्रभावित हुए लाेगाें काे जमीन उपलब्ध करा दिया गया है। जो संबंधित दुकानदार के कब्जे में हैं। महाप्रबंधक बीएसपी द्वारा बताया गया है कि दुकानदारों को दुकान देने के बाद मुआवजा का लाभ दिया जाना संभव नहीं है।
मुआवजा का निर्णय लेने का अधिकार बोर्ड के पास है। प्रभावित दुकानदारों को उपलब्ध कराए गए दुकानों का मेटेनेंस बीएसपी द्वारा कराई जाएगी।
लाेगाें काे राेजगार दिलाने काे लेकर चर्चा की गई: इसके अलावा टाउनशिप के अंदर भारी वाहनाें की पार्किंग,दुर्घटनाजन्य स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा, बाेइरडीह डेम से सिंचाई सुविधा सहित लाल पानी से प्रभावित लाेगाें काे राेजगार दिलाने काे लेकर चर्चा की गई। बैठक में बीएसपी के अधिकारी मुख्य महाप्रबंधक तपन सूत्रधार, महाप्रबंधक एनके मंडल सतेन्द्र कुमार सिंह, विनोद श्रीवास्तव, मैनेजर रमेश हेडाऊ, संतराम साहू, तहसीलदार प्रतिमा ठाकरे, नपा सीएमओ एनआर रत्नेश, सीएसपी अलीम खान, नपाध्यक्ष शीबू नायर, उपाध्यक्ष संतोष देवांगन आदि उपस्थित थे।

बीएसपी अस्पताल में डॉक्टर के रिक्त पदों को भरा जाए
दूसरी मांग में दल्ली राजहरा खदान से आयरन ओर भिलाई इस्पात प्लांट तक सड़क मार्ग से पहुंचाने के लिए स्थानीय परिवहन संघ को कार्य दिए जाने के संबंध में था। जिस पर बीएसपी महाप्रबंधक ने बताया गया कि गाइडलाइन के अनुसार दल्लीराजहरा से आयरन ओर को भिलाई स्टील प्लांट तक पहुंचाने रेल मार्ग का ही उपयोग किया जाना है। बीएसपी दल्ली राजहरा में निविदा प्रक्रिया से जितने भी कार्य हो रहे हैं उसमें ठेकेदारों को स्थानीय लोगों के वाहन उपयोग के लिए निर्देशित किया जाता है। निकट भविष्य में स्थानीय परिवहन संघ को कार्य दे सकेंगे। तीसरी मांग दल्लीराजहरा में अस्पताल का निर्माण कर चिकित्सा सुविधा दिए जाने के संबंध में कहा कि यह शासन स्तर का मामला है। दल्लीराजहरा निवासियों को बीएसपी द्वारा संचालित हॉस्पिटल में चिकित्सा का लाभ दिलाया जा सकता है। महाप्रबंधक बीएसपी ने बताया कि दल्ली राजहरा में 50 बिस्तर अस्पताल संचालित है जहां बीएसपी कर्मचारियों को निशुल्क इलाज की सुविधा का लाभ दिया जाता है। बीएसपी हॉस्पिटल में डॉक्टर के जितने भी रिक्त पद हैं उन्हें तत्काल भरने की कार्रवाई की जाए साथ ही बीएसपी हॉस्पिटल में बीएसपी कर्मचारियों के अलावा अन्य लोगों को भी फ्री चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराई जाए।

डेम साइड के मुख्य नाले की सफाई कराई जाएगी
बायपास सड़क निर्माण के संबंध में चर्चा के दौरान कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग टाेप्पाे ने बताया कि बायपास की सहमति बजट में मिल चुकी है। 15 किमी बायपास के लिए भूमि अधिग्रहण होने के बाद कार्य प्रारंभ हाे जाएगा है । डेम साइड मुख्य नाले व डेम सफाई किए जाने के संबंध में लाेगाें से कराए जाने के संबंध में मांग की गई। जिस पर एसडीएम ऋषिकेश तिवारी ने बताया कि डेम साइड के मुख्य नाले व डेम की सफाई कार्य मशीन से ना कराकर मानव संसाधन का उपयोग कर किया जाए ताकि दल्लीराजहरा के शहरी बेरोजगार लोगों को रोजगार उपलब्ध हो सके। इससे उनका जीवन स्तर भी सुधरेगा। इस पर महाप्रबंधक द्वारा कहा गया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से मानव संसाधन से कराया जाना उचित नहीं है। दुर्घटना की आशंका अधिक बनी रहेगी। इसके लिए बीएसपी प्रबंधन, नगरी प्रशासन व एसडीएम काे प्लानिंग करने कहा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
The vice president sat on the railway track after the consent of the people affected by red water was not given to give employment.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/35nauBY

0 komentar