*Breking jashpur:-छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक,गाँजा पकड़ने के महारथ हासिल,इस थाने में फिर मारुति ब्रेजा कार से साढ़े तीन लाख का मादक पदार्थ जप्त,दो आरोपी गिरफ्तार,पांच लाख मारुति ब्रेजा के साथ आरोपियों को इन धाराओं के तहत की जा रही कार्यवाही,छत्तीसगढ़ के इस थाने का मामला..!*



 

 

जशपुनगर:-जशपुर जिले में उड़ीसा से गाँजा तस्करी के मामले में तपकरा पुलिस से दो आरोपियों से मारुति ब्रेजा कार में 35 किलो 200 ग्राम मादक पदार्थ पकड़ने में सफलता हासिल की है।
आरोपियों के खिलाफ धारा 20 बी NDPS के तहत कार्यवाही की जा रही है।
उल्लेखनीय हो कि अब तक छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में सबसे अधिक गाँजा तस्करी में पकड़ने के मामले तपकरा को मिली है। यहां प्रतिमाह एक दो बड़े मामले सामने आते ही रहते है।
इस अवैध मादक पदार्थों की तस्करी की रोकथाम हेतु लवाकेरा पुलिस चेक पोस्ट में 24 घंटे वाहनों की बारीकी से चेकिंग की जाती है, चेकिंग के दौरान आज दिनांक 03.11.2022 को चेक पोस्ट में तैनात पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि एक मारूती ब्रेजा कार क्र. यू.पी. 66 आर/5352 में 02 व्यक्ति भारी मात्रा में गांजा रखकर विक्रय करने हेतु ओड़िसा की ओर से तपकरा होते हुये उत्तर प्रदेश की ओर जाने वाले हैं, इस सूचना पर नाकाबंदी कर मुखबीर के बतायेनुसार ओड़िसा की ओर से लवाकेरा पुलिस चेक पोस्ट एक मारूती ब्रेजा कार क्र. यू.पी. 66 आर/5352 तेज गति से आया, जिसे बेरियर के पास रोका गया एवं वाहन में सवार दोनों व्यक्तियों से गांजा रखने के संबंध में पूछताछ कर वाहन की तलाशी लेने पर शीट के पीछे भाग में जालीदार पेटीनुमा भाग में भरा 09 पैकेट मादक पदार्थ गांजा 35 किलो 200 ग्राम कीमती रू. 03 लाख 50 हजार रू. एवं तस्करी में प्रयुक्त कार कीमती 05 लाख रू. मिलने पर जप्त गवाहों के समक्ष जप्त किया गया। आरोपियों का कृत्य धारा 20(बी) एन.डी.पी.एस. एक्ट का पाये जाने पर आरोपीगण 1-सूरज तिवारी उम्र 28 साल निवासी रामपुरगौरी थाना कोतवाली प्रतापगढ़ (उत्तर प्रदेश), 2-रमेष कुमार सिंह उम्र 52 साल निवासी झंगुरपुर थाना ज्ञानपुर जिला भदोही (उ.प्र.) को दिनांक 03.11.2022 को गिरफ्तार कर वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।

प्रकरण की विवेचना कार्यवाही, आरोपियों को गिरफ्तार करने एवं मादक पदार्थ जप्त करने में उप निरीक्षक सकलू राम भगत, स.उ.नि. अपलेजर खेस, प्र.आर. 255 राजेश कुजूर, आर. 568 राजेन्द्र रात्रे, आर. 453 दीपक टोप्पो एवं सी.ए.एफ. बल की महत्वपूर्ण भूमिका रही।